Uncategorized

7 लक्षण पहचानें विटामिन डी की कमी के/ find 7 sign and symptom of vitaminD deficiency

विटामिन डी की कमी अविश्वसनीय रूप से आम है, और अधिकांश लोग इससे अनजान हैं।

ऐसा इसलिए है क्योंकि लक्षण अक्सर सूक्ष्म और गैर-विशिष्ट(non specific) होते हैं, जिसका अर्थ है कि यह जानना मुश्किल है कि क्या वे कम विटामिन डी की वजह से या अन्य कारकों के कारण हैं।

यदि आपको लगता है कि आपमें विटामिन डी की कमी हो सकती है, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने डॉक्टर से बात करें और अपने रक्त में विटामिन डी के स्तर को मापें।

सौभाग्य से, विटामिन डी की कमी को आमतौर पर ठीक करना आसान होता है।

संक्षेप में विटामिन डी

अन्य विटामिनों के विपरीत, विटामिन डी एक हार्मोन की तरह कार्य करता है। आपके शरीर की हर एक कोशिका में इसके लिए एक रिसेप्टर होता है।

जब आपकी त्वचा सूरज की रोशनी के संपर्क में आती है तो आपका शरीर इसे कोलेस्ट्रॉल से बनाता है।

यह कुछ खाद्य पदार्थों जैसे वसायुक्त मछली और डेयरी उत्पादों में भी पाया जाता है, हालांकि अकेले आहार से पर्याप्त विटामिन डी प्राप्त करना बहुत मुश्किल है।

कितनी ज़रूरत होती है

रोज 400-800IU या 10-20 माइक्रोग्राम एक वयस्क को जरूरत होती है।

यहां 7 लक्षण विटामिन डी की कमी के बताए जा रहे हैं

1. हड्डियों में दर्द और कमर दर्द

विटामिन-डी की कमी से शरीर में कैल्शियम का अपर्याप्त अवशोषण(absorption) होता है, विटामिन-डी कैल्शियम के अवशोषण में मदद करता है। शरीर में अपर्याप्त विटामिन-डी की वजह से बीएमडी(BMD)कम हो सकता है जिसके परिणामस्वरूप मांसपेशियों में दर्द, जोड़ों में दर्द,कमर दर्द व ऑस्टियोपोरोसिस हो सकता है।

2.अत्यधिक थकान महसूस करना

थकान महसूस करने के कई कारण हो सकते हैं, और विटामिन डी की कमी उनमें से एक हो सकती है।

दुर्भाग्य से, इसे अक्सर संभावित कारण के रूप में अनदेखा कर दिया जाता है।

कई अध्ययनों में यह भी पाया गया है कि विटामिन डी के देने से ,कमी वाले लोगों में थकान की गंभीरता कम हो जाती है।

महिलाओं में यह अधिक पाई जाती है।

3. बार बार बीमार होना या इंफेक्शन होना

विटामिन डी की सबसे महत्वपूर्ण भूमिकाओं में से एक आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखना है ताकि आप वायरस और बैक्टीरिया संक्रमण से लड़ने में सक्षम हो सकें।

4. चिन्ता और डिप्रेशन

अवसाद (depression)कम विटामिन डी के स्तर से जुड़ा हुआ है, और कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि विटामिन डी देने से मूड में सुधार होता है।

5.घावों का धीरे-धीरे ठीक होना

अपर्याप्त विटामिन डी का स्तर सर्जरी, चोट या संक्रमण के बाद ठीक से घाव ना भरने का कारण बन सकता है।

सर्जरी या चोट के बाद घावों का धीरे-धीरे ठीक होना इस बात का संकेत हो सकता है कि आपके विटामिन डी का स्तर बहुत कम है।

6. बालों का गिरना

महिला-पैटर्न बालों के झड़ने में या ऑटोइम्यून स्थिति alopecia areata में विटामिन डी की कमी हो सकती है।

Alopecia areata एक ऑटोइम्यून बीमारी है जिसमें सिर और शरीर के अन्य हिस्सों से बाल झड़ते हैं। यह रिकेट्स से भी जुड़ा है, रिकेट्स एक ऐसी बीमारी है जो विटामिन डी की कमी के कारण बच्चों में नरम हड्डियों(soft bones) का कारण बनती है

7. मांसपेशी में दर्द

मांसपेशियों में दर्द के कारणों का पता लगाना अक्सर मुश्किल होता है। पर
कुछ प्रमाण हैं कि विटामिन डी की कमी बच्चों और वयस्कों में मांसपेशियों में दर्द का संभावित कारण हो सकती है।

अंतिम वाक्य

विटामिन डी की कमी अविश्वसनीय रूप से आम है, और अधिकांश लोग इससे अनजान हैं।

यदि आपको लगता है कि आपमें कोई कमी हो सकती है, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने डॉक्टर से बात करें और विटामिन डी के रक्त में स्तर को मापें।

सौभाग्य से, विटामिन डी की कमी को आमतौर पर ठीक करना आसान होता है।

विटामिन डी प्राप्त करने का सबसे अच्छा स्रोत सूर्य की रोशनी है,इसलिए सूर्य की रोशनी में बैठने से विटामिन डी की कमी प्रायः नही होती।

Dr. Vivek Swarnkar, an Orthopedic Surgeon with more than 15 years of experience.

Leave a Reply