Uncategorized

नमक स्नान कमर दर्द में कैसे सहायक है/how salt bath benefits in back pain

क्या नमक स्नान कमर दर्द कम करता है? नमक स्नान कमर दर्द कैसे कम करताहै? यह प्रश्न आपके दिमाग में जरूर आएंगे।

ज्यादातर लोगों को जीवन में कभी ना कभी कमर दर्द होता है और वो डॉक्टर की सलाह लेते हैं। सौभाग्य से काफी मात्रा में कमर दर्द घर पर ही उपचार लेकर ठीक किए जा सकते हैं। एक घरेलू उपचार जो सदियों से चला आ रहा है वह है एप्सम साल्ट(epsom salt) स्नान।

मूलतः इसकी खोज इप्सम इंग्लैंड के पानी में हुई थी जिसके बाद से इप्सम नामक स्थान इंग्लैंड में एक चर्चित जगह बन गई थी जहां लोग आकर उस पानी में स्नान करके दर्द से राहत पाते थे। आजकल खिलाड़ी व अन्य दूसरे लोग भी इस नमक के स्नान का उपयोग नियमित तौर पर करते हैं कई तरह के दर्द से राहत पाने में जिसमें कमर दर्द भी शामिल है।

एप्सम साल्ट के बारे में

एप्सम साल्ट देखने में तो साधारण नमक की तरह दिखता है परंतु इसकी रासायनिक संरचना अलग है। वैज्ञानिक भाषा में इसे मैग्नीशियम सल्फेट हेपा हाइड्रेट कहते हैं इसके दो मुख्य तत्व मैग्नीशियम और सल्फेट त्वचा से शरीर में अवशोषित होते हैं। मैग्नीशियम सूजन कम करता है और तंत्रिका और मांसपेशियों के कार्य प्रणाली में सुधार करता है ,सल्फेट पोषक तत्वों को शरीर में अवशोषित करने में मदद करता है, हानिकारक तत्वों को शरीर से बाहर निकालता है और माइग्रेन जैसे सर दर्द को कम करने में भी मदद करता है।

इप्सम साल्ट कमर दर्द कैसे कम करता है?

काफी लोग नमक के स्नान का काफी समय से इस्तेमाल कर रहे हैं कई खिलाड़ी भी नमक स्नान को घरेलू उपचार की तरह दिनचर्या के रूप में दर्द से राहत पाने के लिए इस्तेमाल करते हैं पर अभी तक इसके प्रभावों का चिकित्सकीय प्रमाण उपलब्ध नहीं है, कुछ अनुमानित तथ्य निम्नलिखित हैं

1. सूजन को कम करना कई लोगों को कमर दर्द चोट व्यायाम की अधिकता या अन्य किसी बीमारी की वजह से होता है जिसकी वजह से मांसपेशियों में सूजन आती है, epsom salt सूजन व इन्फ्लेमेशन कम करता है जिसकी वजह से कमर दर्द में आराम मिलता है।

2. मांसपेशियों को ढीला करना

कई कारणों की वजह से मांसपेशी में तनाव होता है, कमर की तनावग्रस्त मांसपेशी कमर दर्द का कारण बनती है नमक स्नान मांसपेशियों का तनाव कम करता है। इसके अलावा इलेक्ट्रोलाइट इंबैलेंस को भी ठीक करता है।

इप्सम नमक को कमर दर्द के लिए कैसे इस्तेमाल करते हैं

इस्तेमाल के लिए इन बुनियादी दिशा निर्देशों का पालन करना चाहिए।

१. बाथ टब में गुनगुना गर्म पानी भरें, छूकर सुनिश्चित कर ले यह बहुत अधिक गर्म ना हो

२. चलते हुए पानी में एक या दो कप इप्सम साल्ट डालें,जिससे ये अच्छी तरह घुल जाए।

३. टब में ऐसे बैठे ताकि आपके कमर के दर्द वाला स्थान पूरी तरीके से पानी में डूबा हो कम से कम 10 मिनट तक इसमें बैठे । नमक स्नान के बाद आप रिलैक्स और दर्द से राहत महसूस करेंगे। ज्यादा रिलैक्सेशन के लिए इसके साथ एसेंशियल ऑयल या एरोमाथेरेपी का भी सहारा ले सकते हैं।

अधिकतम 15 से 20 मिनट तक साल्ट बाथ लेना चाहिए।हफ्ते में कई बार इसे लिया जा सकता है,ये आपको कमर दर्द की गभीरता पर है,ज्यादातर मामलों में हफ्ते में 3 बार नमक स्नान पर्याप्त है।

इसके अलावा कुछ और रोगों में भी नमक का स्नान घरेलू उपचार की तरह इस्तेमाल किया जाता है यह रोग हैं:

  • गठिया के दर्द और सूजन में
  • मोच आना
  • फाइब्रोम्यालजिया
  • नींद न आना(इनसोम्निया)
  • सोरायसिस
  • व्यायाम के बाद मांसपेशियों में दर्द
  • कीमोथेरेपी और डायरिया के बाद होने वाला मांसपेशियों का दर्द
  • माइग्रेन
  • थकावट के बाद का दर्द
  • तेज धूप के बाद लालिमा और दर्द
  • दिमागी तनाव में

ब्लॉक आपको कैसा लगा अगर आपको लगता है कि यह ब्लॉग आपके परिवार वालों या दोस्तों को कुछ मदद कर सकता है तो यह ब्लाग जरूर व्हाट्सएप पर शेयर करें क्योंकि अगर उन्हें कुछ फायदा मिलेगा तो वह आपको थैंक्यू बोलेंगे और मेरा भी यह छोटा सा मैसेज किसी के काम आएगा। धन्यवाद।

कृपया लाइक और सब्सक्राइब करें क्योंकि इससे मेरा मोटिवेशन बना रहता है।

Dr. Vivek Swarnkar, an Orthopedic Surgeon with more than 15 years of experience.

Leave a Reply