हड्डी और जोड समस्या

क्या तैराकी से कमर दर्द में लाभ होता है/can swimming help in back pain

अगर आप तैराकी के या पानी के शौकीन हैं और कमर दर्द से भी परेशान हैं तो आप ये सोच रहे होंगे कि क्या तैराकी कमर दर्द को कम करने में मदद कर सकती है।पर सच बात यह है कि तैरना कमर दर्द का कारण भी हो सकता है और कमर दर्द से छुटकारा पाने का समाधान भी हो सकता है। अगर सही तरीके से किया जाए तो तैराकी कमर दर्द के लिए बहुत अच्छा व्यायाम साबित हो सकता है।तो इस ब्लॉक में बात करेंगे कि कैसे तैराकी आपकी पीठ को मदद या नुकसान पहुंचा सकती है।

तैराकी कैसे कमर दर्द कम करने में मदद करती है

पानी की उछाल(buoyancy) गृत्वाकर्षण बल को कम कर के रीढ़ की हड्डी पर आने वाले दबाव बल को कम करती है,जिससे आप ये कार्डियो व्यायाम(तैराकी) बिना दर्द के कर पाते हैं और इससे पैरास्पिनल मांसपेशियों का स्ट्रेंग्ठनिंग व्यायाम भी हो जाता है।पैरास्पिनल मांसपेशियों का व्यायाम और कार्डियो दोनो ही कमर दर्द में फायदा पहुंचाते हैं।

कुछ शुरुआती वॉर्म अप/जरूरी है

अगर आपको लगता है कि आप कुशल तैराक नहीं है तो आपको पहले तैराकी सीखना चाहिए क्योंकि बिना सीखे हुए तैराकी करने पर कमर दर्द बढ़ सकता है इसके अतिरिक्त आप स्विमिंग पूल की गहराई में चलकर या साईकिल चलाने की मुद्रा बनाने का वॉर्म अप कर सकते हैं।

कमर दर्द के लिए सबसे अच्छा तैराकी का तरीका क्या है

बैकस्ट्रोक

आपके तैराकी कसरत के लिए आपके द्वारा चुने गए स्ट्रोक या तो आपकी पीठ को मदद करेंगे या नुकसान पहुंचा सकते है।

इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप ऐसे स्ट्रोक्स ही करें ये आपकी रीढ को प्रेटेक्ट करेंगे और दर्द को नियंत्रण में रखेंगे।

“पीठ दर्द वाले व्यक्तियों के लिए सबसे सुरक्षित स्ट्रोक फ्रीस्टाइल और बैकस्ट्रोक हैं।

पीठ के निचले हिस्से में दर्द वाले व्यक्तियों के लिए बैकस्ट्रोक एक अच्छा स्ट्रोक होता है क्योंकि इसमें आमतौर पर पीठ के निचले हिस्से पर कम तनाव होता है। जब आप अपने पेट के बल तैरते हैं, तो वे अपने सिर और छाती को पानी से बाहर रखने की कोशिश में अपनी पीठ को झुकाते हैं। यह उनके पैरों को पानी में और डूबने के लिए मजबूर करता है और उनकी रीढ़ की हड्डी को हाइपरेक्सटेंशन पोजिशन में ले जाता है।

बैकस्ट्रोक(इसमें पीठ के बल तैरते हैं) इस हाइपरेक्सटेंशन को कम करने और रीढ़ की मुद्रा में सुधार करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, बैकस्ट्रोक करते समय एब्स को घुमाने से कोर की मांसपेशियों की ताकत में सुधार करने में मदद मिलती है।

कमर दर्द के लिए कितनी बार कितनी देर तक तैराकी करना चाहिए

तैरना आपको इतना अच्छा लग सकता है कि आप हर दिन पूल में जाना चाहेंगे लेकिन व्यायाम के प्रत्येक रूप की तरह – खासकर जब आप पीठ दर्द से जूझ रहे हों – संयमित होना बहुत जरुरी है ताकि आप अत्यधिक उपयोग से होने वाले नुकसान से बच सकें।

यह प्रत्येक तैराक पर निर्भर करता है, पीठ दर्द से निपटने वालों के लिए ये सलाह है कि गतिविधि करते समय(तैरते समय) दर्द को बढ़ाने वाली किसी भी गतिविधि से बचें।

“पोस्ट-एक्टिविटी सोरनेस(खिंचाव, दर्द) जो कुछ घंटों के भीतर गायब हो जाती है, ठीक है। गतिविधि के बाद की सोरनेस जो अगले दिन तक बनी रहती है, एक चेतावनी संकेत है कि आप बहुत अधिक कर रहे हैं।”

सामान्य तौर पर सप्ताह में दो बार से शुरुआत करना चाहिएऔर जैसे-जैसे सहज महसूस करें सप्ताह में 4 -5बार तक जा सकते हैं।

अंतिम वाक्य

तैराकी या किसी भी प्रकार का व्यायाम करते समय, लाभ पूरी तरह से व्यक्ति विशेष और पीठ की स्थिति के प्रकार पर निर्भर हैं। हम सभी प्रकार के व्यायाम को एक जैसा नहीं बता सकते, या यह नहीं कह सकते कि तैराकी कमर दर्द के अन्य व्यायामो की तुलना में अधिक प्रभावी हैं।

सामान्य तौर पर गठिया और स्पाइनल स्टेनोसिस वाले मरीज तैराकी में ज्यादा अच्छा लाभ प्राप्त करते हैं, यह तैराकी में पीठ पर पड़ने वाले कम गुरुत्वाकर्षण की वजह से संभव होता है।

अन्य परेशानी वाले लोग तैराकी करते समय अपनी गतिविधि को अपने दर्द के अनुसार संयमित होते हुए तैराकी कर सकते हैं।

ब्लॉग आपको कैसा लगा अगर आपको लगता है कि यह ब्लॉग आपके परिवार वालों या दोस्तों को कुछ मदद कर सकता है तो यह ब्लाग जरूर व्हाट्सएप पर शेयर करें क्योंकि अगर उन्हें कुछ फायदा मिलेगा तो वह आपको थैंक्यू बोलेंगे और मेरा भी यह छोटा सा मैसेज किसी के काम आएगा। धन्यवाद

Dr. Vivek Swarnkar, an Orthopedic Surgeon with more than 15 years of experience.

Leave a Reply