हड्डी और जोड समस्या

क्या कमर में दर्द के लिए बेल्ट/ब्रेस जरूरी है।/is brace necessary for back pain

पीठ की कई समस्यायों में हमें बेल्ट या ब्रेस पहनने की सलाह डाक्टर द्वारा दी जाती है,पर इसको लेकर कई बार हमारे मन मे संदेह बना रहता है,जैसे

  • क्या मुझे ये पहनना चाहिए?
  • क्या इससे मेरी मांसपेशी दुर्बल हो जायेगी?
  • क्या बेल्ट की मुझे आदत तो नहीं पड़ जायेगी?
  • क्या सोते समय मुझे इसे पहनना है?
  • क्या इसे पहनकर मैं गाड़ी चला सकता हूं?
  • क्या इसे मुझे हमेशा पहननना होगा?
  • क्या इसे पहनने से मुझे कोई नुकसान तो नही होगा?
  • क्या ये बेल्ट या ब्रेस वास्तव में मेरी कमर दर्द की समस्या ठीक कर देगी?

जब भी कमर के बेल्ट या ब्रेसकी बात आती है तो सबसे प्रभावी इसे पहनना तब होता है जब हम इसे विशेषज्ञ चिकित्सक की सलाह से इस्तेमाल करते हैं।

ऐसी स्थितियां जहां बैक ब्रेस उपयोगी हो सकता है:

  • मोच / तनाव(स्ट्रेन/स्प्रेन) – तीव्र
  • पोस्ट-ऑपरेटिव सपोर्ट: डिस्केक्टॉमी, फ्यूजन, लैमिनेक्टॉमी इत्यादि
  • Facet सिंड्रोम
  • स्पाइन की अस्थिरता: पुरानी अस्थिरता या चोट के बाद
  • बल्जिंग डिस्क या हर्नियेटेड डिस्क
  • स्पाइनल स्टेनोसिस
  • फ्रैक्चर मैनेजमेंट
  • पोस्टुरल पीठ दर्द

किन मरीजों में ब्रेस या बेल्ट बहुत ज्यादा प्रभावी है

वैसे तो बेल्ट पीठ की बहुत सारी बीमारियों में दिया जाता है पर यह चोट या फ्रैक्चर के इलाज में ,स्पाइन इंस्टेबिलिटी में और ऑपरेशन से रिकवरी में सबसे ज्यादा सहायक है।

Back brace या पीठ की बेल्ट आपके रीड की हड्डी को उचित स्थिति में रखती है जब आप बैठे होते हैं या चल रहे होते हैं या काम कर रहे होते हैं।

क्या ब्रेस या बेल्ट मांसपेशियों को कमजोर करता है?

वैज्ञानिक शोध के अनुसार,कमर दर्द में इन उपकरणों के कुछ संभावित फायदे हैं। बेल्ट या ब्रेस अस्थायी रूप से कार्यक्षमता को बढ़ाने और पीठ की परेशानी को कम करने में मदद कर सकती है।

ये प्राकृतिक रूप से हीलिंग को बढ़ावा देती है।

हालाकि ब्रेस पहनने की कुछ कमियां हो सकती हैं, स्पाइन यूनिवर्स के अनुसार बहुत अधिक अवधि या आवृत्ति के साथ बैक ब्रेस पहनने से पीठ और पेट दोनों की मांसपेशियों का नुकसान और कमजोरी हो सकती है। पर हाल ही के वैज्ञानिक प्रमाणों में यह पता चला है इस तरह की कोई कमजोरी बैक ब्रेसलेट बेल्ट पहनने से नहीं होती है।

कुछ लोग मानसिक तौर पर अपनी सामान्य गतिविधियों को पूरा करने के लिए बेल्ट पर आश्रित महसूस कर सकते हैं या मनोवैज्ञानिक तौर पर इसकी लग सकती है।

बेल्ट से मांसपेशियां कमजोर ना हो इसके लिए क्या करें?

यह जरूरी है कि बेल्ट पर बहुत अधिक निर्भर ना हो और इसे निर्देशित से अधिक समय तक ना पहने। अपने डॉक्टर के द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें।

और अगर आप बैक ब्रेस पहनते हैं तो मांसपेशियों की कमजोरी को दूर करने के लिए कदम उठाए जैसे —

  • अपनी पीठ को सीधा रखें और बैठते समय अपनी मुद्रा(posture) सही रखें, जिससे आपको अपनी पीठ और पेट की मांसपेशियों को मजबूत रखने में मदद मिल सकती है।
  • कार्डियो और कोर स्ट्रैंथनिंग व्यायाम करके मांसपेशियों को एक्टिव रख सकते हैं, परंतु इसके लिए पहले अपने चिकित्सक से जरूर सलाह लेवे, कि आपके रोग के अनुसार क्या आप इसे कर सकते है या नहीं।
  • निचली कमर की स्ट्रेचिंग व्यायाम जैसे पेल्विक टिल्ट, पार्शियल कर्ल आदि करके मांसपेशियों को सजीव और प्रगतिशील बनाए रखा जा सकता है।
  • अगर आपको यह दुविधा है कि आप बेल्ट पर मानसिक रूप से आश्रित हो रहे हैं तो इसके लिए अवश्य चिकित्सक से संपर्क करें।

क्या बेल्ट सोते समय भी पहनना चाहिए?

बेल्ट या ब्रेस के साथ सोना एक विवादास्पद विषय है, सामान्यता सोते समय बेल्ट या ब्रेस पहनने की जरूरत नहीं होती है पर कुछ परिस्थितियों में जैसे फ्रैक्चर के बाद या तीव्र स्पाइनल इंस्टेबिलिटी, या कुछ स्पाइन सर्जरी के बाद चिकित्सक आपको कुछ दिनों तक बेल्ट पहनने की सलाह दे सकते हैं अतः बेल्ट रात में पहनने का निर्णय चिकित्सक की सलाह से लेना चाहिए।

बेल्ट या ब्रेस लगाकर सोते समय कुछ ध्यान रखने योग्य बातें

  • जब आप सोने जाएं तो पहले बिस्तर के किनारे पर बिस्तर की तरफ पीठ करके दोनों पैर लटका कर बैठ जाए फिर दोनों पैर एक साथ उठाकर बिस्तर पर रखें और घूम कर लेट जाएं, अगर आप खुद पैर उठाकर ऊपर रखने में अक्षमता महसूस करते हैं तो किसी की मदद ले सकते हैं।
  • अपने घुटने के नीचे तकिया लगाए यह आपके रीढ़ की हड्डी पर होने वाले दबाव को कम करता है।
  • अगर आप ड्रेस पहन कर सोते हैं तो डॉक्टर आपको करवट लेकर सोने की सलाह देते हैं करवट लेने के बाद दोनों घुटनों के बीच में एक तकिया रखना चाहिए जिससे स्पाइन पर खिंचाव कम पड़ता है।
  • अगर आप रात में ब्रेस पहन कर सोते हैं तो यह सुनिश्चित करें कि आपकी पीठ ठंडी और सूखी हुई होनी चाहिए क्योंकि नमी की वजह से खाल के इन्फेक्शन और अल्सर पैदा होने की संभावना बनी रहती है किसके लिए आप टेलकम पाउडर का इस्तेमाल कर सकते हैं और हर 2 घंटे में करवट ले सकते हैं। ब्रेस के अंदर शर्ट पहनने से भी खाल का इरिटेशन कम होता है। और इंफेक्शन की संभावना कम होती है।

अंतिम वाक्य

सामान्य परिस्थितियों में बेल्ट या ब्रेस को रात में पहनने की सलाह नहीं दी जाती है परंतु कुछ परिस्थितियों में चिकित्सक आपको इसे रात में पहनने की भी सलाह दे सकते हैं अतः ब्रेस को पहनने का पूरा प्रोटोकोल चिकित्सक से अच्छी तरह समझ लेना चाहिए और ठीक होने के साथ जल्दी से जल्दी चिकित्सक की सलाह से ब्रेस को हटा देना चाहिए। अगर आप इसे हटाने में अपने आप को असमर्थ पाते हैं या आपको इसकी लत लग रही है तो चिकित्सक से तुरंत संपर्क करना चाहिए। ब्रेस पहनने के दौरान उचित व्यायाम करके मांसपेशियों को गतिमान रखें और खाल की समस्या से बचने के लिए ड्रेस के नीचे कॉटन की शर्ट पहने जो टाइट फिट हो और ब्रेस के नीचे तक जाती हो, आप टेलकम पाउडर का इस्तेमाल ब्रेस के नीचे कर सकते हैं पर लोशन या मलहम लगाकर ब्रेस न पहनें।

ब्लाग कैसा लगा, कृपया लाइक और कमेंट करें।



	

Dr. Vivek Swarnkar, an Orthopedic Surgeon with more than 15 years of experience.

2 Comments

Leave a Reply